Loading Consent Dialog

राष्ट्रपति भवन के लाल कालिन पर आम इंसान भी पहुंचे ये है असली हीरो

आम इंसान भी श्री पद्म अवार्ड का हक़दार

हरेकला हजब्बा: संतरे बेच पाई पाई जोड़कर गांव में बनवाया स्कूल

राष्ट्रपति के हाथों देश के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान 'पद्म श्री' से नवाजी जा रही इस शख्सियत को देखिए।

पैरों में चप्पल तक नहीं, बिल्कुल नंगे पांव। यह हैं कर्नाटक के हरेकला हजब्बा। यह मेंगलुरु की सड़कों पर टोकरी में संतरा रखकर घूम-घूमकर बेचा करते हैं।

राहीबाई सोमा पोपेरे : 'सीड मदर' जिनका वैज्ञानिक भी मानते हैं लोहा

साधारण लाल साड़ी में नंगे पांव यह महिला राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों देश का चौथा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान 'पद्म श्री' हासिल कर रही हैं। यह हैं राहीबाई सोमा पोपेरे।

इन्हें 'सीड मदर' के नाम से जाना जाता है। उन्होंने जैविक खेती को एक नई ऊंचाई दी हैं। 57 साल की पोपेरे स्वयं सहायता समूहों के जरिए 50 एकड़ जमीन पर 17 से ज्यादा देसी फसलों की खेती करती हैं।

तुलसी गौड़ा : पर्यावरण योद्धा, 'जंगल की इनसाइक्लोपीडिया' पिछले 6 दशकों से पर्यावरण सुरक्षा कर रही हैं

सम्मान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह जैसी हस्तियां हाथ जोड़े अभिवादन कर रही हैं। यह हैं तुलसी गौड़ा।

72 साल उम्र। बदन पर कपड़े के नाम पर जैसे कोई चादर चपेटी गई हो। नंगे पैर रेड कार्पेट पर दस्तक।

एक पर्यावरण योद्धा जिन्हें इनसाइक्लोपीडिया ऑफ फॉरेस्ट' के नाम से जाना जाता है। उन्हें भी सामाजिक कार्यों के लिए 'पद्म श्री' से सम्मानित किया गया है।